CultureSpecial Day

9 अगस्त:विश्व मूलनिवासी दिवस मनाने के पीछे की साजिश

शरद चव्हाण

भारत में त्योहारों को मनाने की परंपरा बहुत पुरानी है। स्वतंत्र भारत में त्योहारों को धार्मिक और सामाजिक रूप से विभाजित किया गया । कुछ वर्षगांठ, स्मरणोत्सव या ऐतिहासिक दिन सरकार द्वारा निश्चित किए गए और उनमें से कुछ दिन को सरकारी तंत्र ने अनिवार्यता के साथ मनाने को आवश्यक कर दिया। कुछ दिन गलत पहचानों के उन्माद के साथ अधिकता से मनाने लगे।
वाणिज्यिक लाभ के संदर्भ में, एक खुली विश्व नीति के साथ, कुछ ‘डेज’ (जैसे रोज डे, फ्रेंडशिप डे, वेलेंटाइन डे, फादर-मदर डे) पेश किए गए, खासकर कॉलेज के छात्रों और युवाओं की भावनाओं को ध्यान में रखते हुये। इसे पहले रचनात्मक सृजनात्मक तौर तरीके से मनाये गये और बाद में धीरे-धीरे बहुत ही बेहुदी तरीके से मनाये जाने लगे।
हम धार्मिक, सामाजिक, आर्थिक व्यावसायीकरण के संदर्भ में मनाए जाने वाले दिनों को समझ सकते हैं या सारासार इसका विरोध करने का कोई कारण भी नहीं है ।
मगर भले ही अंतरराष्ट्रीय स्तर पर या यूएनए द्वारा घोषित किया गया कोई दिवस अगर देश की अखंडता, संप्रभुता और सांस्कृतिक परंपराओं का उल्लंघन करता है तो ऐसे दिवस को भारत में मनाये जाने के पीछे की साजिश को समझने की आवश्यकता है ।

इस पृष्ठभूमि के परिप्रेक्ष्य में पिछले चार-पांच वर्षों से भारत में कुछ विघटनकारी विचारधाराओं ने, उनके कार्यकर्ताओं ने, विभाजनकारी और कुटिल संगठनों ने, विधर्मियों ने मिलकर अंतर्राष्ट्रीय साजिश के तहत भारत के वनवासी समुदाय की मासूमियत का लाभ उठाते हुए, वर्तमान शिक्षा प्रणाली एवं विकास से पिछडे, अंधश्रद्धा व अपने अस्मिता के साथ सह-अस्तित्व बनाकर एक विशेष पहचान के साथ दूर दराज क्षेत्र में अपना जीवन ज्ञापन करने वाले
आदिवासियों को लेकर एक फुटीर प्रणाली बनाई है जो अंतरराष्ट्रीय साजिशों की मदद से संप्रदायों और जातियों के बीच भेदभाव कर रही है,
साथ ही 9 अगस्त, को ‘विश्व वनवासी दिवस’ के रूप में जोर शोर से मना रही है। आदिवासी समुदाय विशेषकर युवाओं से और अधिक उत्साह से मनाने का आग्रह किया जा रहा है। वे उन्हें हर प्रकार की सहायता कर इस दिवस को मनाने के लिए मजबूर कर रहे हैं।

1) विश्व में लगभग 44 करोड़ वनवासी हैं, जिनमें से 11 करोड़ वनवासी भारतीय हैं। इसलिए, यह एक सामान्य भावना है कि भारत के आदिवासियों को इस विश्व दिवस का नेतृत्व करना चाहिए। जिस कारण से एक विचारधारा बन रही है, वह यह है कि, जो हमें इस गौरवशाली दिवस को मनाने की अनुमति नहीं देते हैं, वे वनवासी समाज के शत्रु हैं – वास्तव में, यह विदेशी, आक्रमक लोग हैं जो हमें छल भावना से इस निष्कर्ष तक पहुँचाने के प्रयास कर रहे हैं।
2) हम, आदिवासी, हम इस भूमि के स्वामी हैं, हम अनादि काल से यहाँ रहते आ रहे हैं, इसलिए आदिवासियों के रूप में हमारे अधिकारों को पुनः प्राप्त करने का यह गौरवशाली दिन, फिर से स्वामी होने का, विदेशी याने आर्य आक्रमणकारियों को हराकर फिरसे राजा बनने का दिवस माने विश्व आदिवासी दिवस है – 9 अगस्त …
3) इस भ्रामक विचार ने न केवल आम जनता को बल्कि महाराष्ट्र सरकार सहित कई राज्यों के वनवासी मंत्रालयों को प्रभावित किया और उन्होंने अपने-अपने राज्यों में इस दिन को मनाने के लिए सरकारी स्तर पर परिपत्र जारी किए।

इस दिन के पीछे की वास्तविकता क्या है?
क्या भारत और इस विश्व आदिवासी दिवस के बीच कोई संबंध है? मूलतः यह दिवस किसने? क्यों? कब? किस उद्देश्य से ? आरंभ किया ? कब से मनाया जा रहा हैं? इसकी जानकारी प्राप्त करना आवश्यक हैं।

विश्व मानवाधिकार आयोग 1990 में सक्रिय हो गया और विश्व की कुल जनसंख्या, उनके जीवन की वर्तमान स्थिति, मौलिक अधिकारों और अधिकारों के बारे में अधिक जागरूक हो गया। यूएनओ (UNO)ने उपरोक्त बिंदुओं के आधार पर सर्वेक्षण और सेमिनार आरंभ किया। जिनेवा में 1992 की यूनेस्को की बैठक में, विश्व के आदिवासी, स्वदेशी लोगों की वर्तमान स्थिति को देखते हुए एक प्रस्ताव (रिजोल्यूशन) पारित किया गया था।

45-बिंदु रिज़ॉल्यूशन को आठ भागों में विभाजित किया गया था। इस प्रस्ताव को बनाते समय जिन मुख्य बिंदुओं पर ध्यान दिया गया, उन बिंदुओ का भारत से कोई संबंध नहीं था और यह संकल्प पर हस्ताक्षर करते समय केंद्र सरकार के प्रतिनिधिमंडल द्वारा स्पष्ट भी किया गया था कि, “हम दुनिया के हित में इस पर हस्ताक्षर कर रहे हैं, लेकिन हम यह स्पष्ट कर रहे हैं कि “भारत में रहने वाले (ईसाई, मुस्लिम, यहूदी, पारसी अन्य मतावलंबी आक्रमणकारियों को छोड़कर) सभी स्वदेशी हैं।”

जिनके लिये यह प्रस्ताव बना था ऊन सभी देशो में, अनेक शतकों से बाहर से आये युरोपियन आक्रमणकारियों ने वहां के सभी मूल निवासियों को एक तो निर्वासित कर दिया, उन्हें गुलाम बना लिया, उन्हें गिरिकंद भेजा । उनकी प्रतिमा असभ्य जंगली कर दी । बायबल लेकर आये और जमिन के मालिक बन गये । वहां पर भी इतने आसान तरिके से नही हुवा, क्यूकी सभी मूल निवासियों ने उन्हें बाहर निकालने के लिए कड़ा संघर्ष किया। और फिर से स्वतंत्र हो गए ।

दुनिया में उपनिवेशवाद का निर्माण करते समय यूरोपीय आक्रमणो ने जिन तरीकों का इस्तेमाल किया था और अनुसंधान ने पूरी तरह से दागी वैचारिक राय बनाई, विशेष रूप से अंग्रेजों ने सफलतापूर्वक भारत पर आरोप लगाने का काफी प्रयास किये । जिसमें सब से उत्पात मचाया वह आर्य बाहर से भारत आए थे। उन्होंने अनार्य पर आक्रमण किया और उनकी संस्कृति, धर्म और भूमि को नष्ट कर दिया। यह

लेकिन जिन्हेवा संकल्प के समय भारत द्वारा इसका स्पष्ट रूप से विरोध किया गया।
संकल्प का मुख्य बिंदु यह था कि दुनिया के कई देशों में सत्ता स्थापित करते समय, यूरोपीय देशों – विशेष रूप से स्पेन, पुर्तगाल, फ्रांस, ब्रिटेन ने सत्ता के लिए स्वदेशी लोगों पर आक्रमण किया, मुकदमा चलाया, उपनिवेशीकरण किया और उन्हें गलत परिस्थितियों में रहने के लिए मजबूर किया। उन्हें गुलाम बना लिया। उनकी स्वतंत्रता को नष्ट कर दिया। इसने उनके जीवन के अधिकार को भी नष्ट कर दिया। यह दुनिया के विभिन्न हिस्सों में पिछली कुछ शताब्दियों में शुरू हुआ – कम से कम 500 साल।

यूरोपीय लोगों ने कम समय में कई देशों पर आक्रमण कर उन्हे नेस्तनाभूत किया था; लेकिन भले ही वह भारत में 150 साल का था, पहले दिन से लेकर जब तक उसने छोड़ दिया, तब तक यहां के सभी लोगों द्वारा उसका हमेशा विरोध किया गया। यह विरोध उनके आधुनिक हथियारों के साथ था, उनकी भाषा के साथ, उनकी राजशाही के साथ जैसे के वैसा था ।

दूसरी बात यह है कि यूरोपीय सेना के साथ, उनकी आरक्षित चौथी सेना, मिशनरियों ने भी दुनिया में कोहराम मचा रखा था, जो आज भी जारी है। सेना ने कई लोगों को मार डाला, और बचे लोगों को ईसाई धर्म में परिवर्तित कर दिया गया। भारत में सत्ता में आने के बावजूद, उन्हें ईसाई धर्म में परिवर्तित करने के लिए पराजित किया गया था। जो लोग भारत में ईसाई या मुसलमान नहीं बने, जो अपने देश में प्रवासी हो गए या जो लोग अत्यधिक भय का जीवन जीते थे, जिन्होंने उनकी संस्कृति, उनकी क्रूरता को स्वीकार नहीं किया, जो लोग अपने पारंपरिक जीवन के साथ बने रहे, वे सभी अंग्रेजियत व्याख्या से आदिवासियों के रूप में जीने को मजबूर हुए।

1947 के बाद, भारत सहित कई देश स्वतंत्र हो गए। ब्रिटिश उपनिवेशों में गुलाम देशों के रूप में रहने वाले देश स्वतंत्र हो गए। यह ब्रिटिश उपनिवेशवादियों के लिए एक झटका था, जो इस भ्रम में थे कि उनका सूरज भारत सहित कई साम्राज्यों पर से कभी भी अस्त नहीं होगा। लंबे समय तक दुनिया पर राज करने का सपना चकनाचूर हो गया और भारत ने इसमें एक प्रमुख भूमिका निभाई ।
परिणामस्वरूप, ब्रिटिश, यह जान गये कि अखंड भारत विश्व में महाशक्ति बनकर उभर कर आयेगा । इसे खंडित करने के लिए कई कपटपूर्ण अस्त्रो का उपयोग किया । इसमें से एक अस्त्र अंग्रजों ने मूल निवासी, आदिवासी के रूप में प्रयोग करना आरंभ कर दिया और इस कार्य में सभी भारत विरोधी तत्वों ने हाथ मिलाया।

इन सभी चीजों को आदिवासियों की कई व्याख्याओं में ग्रहण किया जाता है।

आदिवासियों में कुछ विशेष क्षेत्र और जनजातीय समुदाय हैं। जैसे अफ्रीका में फ्रांसीसी-सोमालिया, ब्रिटिश-सोमालिया, लैटिन अमेरिका में फ्रेंच-गयाना, डच-गयाना, अमेरिका में लाल भारतीय, मूल ऑस्ट्रेलियाई, पापुआ, माओरी । यह लोग पहले से ही आबाद थे । जिसमें भारत कहीं नहीं आता । माया और इंका जैसी संस्कृतियों को आक्रामकता के एक टक्कर में पृथ्वी के नक्शे से मिटा दिया गया था।

21 वीं सदी के अंत में, UNO के माध्यम से, विभिन्न मीडिया के माध्यम से मूल निवासी मुद्दों को विश्व स्तर पर उठाया जाने लगा । 1993 को विश्व मूल निवासी वर्ष के रूप में मनाया गया। 1994-2004 को दस वर्षों के लिए मूल निवासी लोगों के दशक के रूप में भी मनाया जाना था । यह मूल निवासी लोगों के विकास में मदद करेगा, मीडिया का उपयोग उनकी कला, संस्कृति, जीवन के तरीके को प्रदर्शित करने के लिए किया गया।

मूल निवासी लोगों को जीने का अधिकार दिया जायेगा और अपने स्वयं के अनूठे तरीके से जीवन को बनाए रखने के लिए, मूल निवासी लोगों को सामान्य जीवन ज्ञापन करने का वचन देगा, उनकी अखंडता और सुरक्षा पर ध्यान दिया जायेगा । नरसंहार या हिंसा से बचाया जायेगा , व्यक्तिगत रूप से और सामूहिक रूप से जीवन को जिने अधिकार प्राप्त होगा, आदिवासियों के रूप में आत्म-पहचान का अधिकार, आपात स्थिति और युद्धों के दौरान उनके मूल नागरिक अधिकार अप्रभावित रहेंगे, आदिवासियों के सांस्कृतिक, आध्यात्मिक और भाषाई अधिकारों को मान्यता दी जायेगी । उनका इतिहास, परंपराएँ, भाषा, बोली का उपयोग, लेखन शैली, उनका अपना, सामुदायिक नाम, स्थान आदि सुरक्षित रहेंगे । खेती करने का अधिकार, शिक्षा का अधिकार, पारंपरिक ज्ञान, सूचना के अधिकार को भी मान्यता दी गई है और ऐसी कई चीजें उन दस वर्षों में शामिल की गई थी।

हैरानी की बात है कि आदिवासियों के बारे में सोचने के लिए दुनिया को 21 वीं सदी का इंतजार करना पड़ता है, लेकिन 1952 में आजादी के बाद, भारत ने न केवल संविधान के आधार पर आदिवासी समुदाय के बारे में सोचा, बल्कि उन्हें सम्मान के साथ बुनियादी अधिकार भी दिए । इतना ही नहीं, उसके बाद भी, समय-समय पर, विभिन्न आयोगों और सभी राज्यों के माध्यम से, विशेष रूप से नियोगी आयोग की सिफारिशों पर, पंचायत राज्य अधिनियम, पीईएसए अधिनियम, व्यक्तिगत, सामूहिक वन अधिग्रहण और वन संरक्षण अधिनियम लागू किया गया है।

सरकार की भूमिका याचक के रूप में नहीं बल्कि आदिवासी समुदाय के लाभार्थियों के रूप में भारत के अन्य नागरिकों के नाते, भाईचारे की भावना देने में स्पष्ट थी ।
हमने यह मान लिया था जो परंपरागत रूप से भारत का एक प्रमुख निवासी है, लेकिन दूर दराज, वन जंगलों में अपनी आजीविका चला रहा है । हमारे देश की ख़ासियत यह है कि वेश-भूषा, भाषा, खान- पान की विविधता के बावजूद, भारत सांस्कृतिक, आंतरिक रूप से, पारंपरिक भाव से, ऐतिहासिक रूप से, मित्र एवं शत्रु भाव से भी एक है।
हम सभी भारतीय हैं और इस अनुभव को दुनिया भर में आदिवासी, वनवासी समेत समस्त भारतीय समाज द्वारा दर्शाया गया है,

जो परंपरागत रूप से इस राष्ट्र के धर्म, देश, ईश्वर, इतिहास और संस्कृति से भी जुड़ा हुआ है । यूएनओ (UNO) समेत दुनिया भर के कई विचारक इस बात से सहमत हैं कि भारत में मूलवासी समस्या ही नहीं है।
भारत को अन्य देशों के मूलनिवासी लोगों के तरह लक्ष्यों और नीतियों को लागू करने की आवश्यकता नहीं है;

लेकिन दुर्भाग्य से भारत अभी भी अंग्रेजी मानसिकता की गुलामी से मुक्त नहीं है।
हम अंग्रेजों की छल बल को समझ सकते हैं। वे ऐनकेन प्रकारेण इस देश पर शासन करना चाहते थे । इसलिए, उन्होंने शिक्षा और सरकार के माध्यम से इस देश में कई झूठ फैलाए। उनमें से एक यह है कि यह देश कभी एक नहीं था। यह कई समुदायों के लिए एक धर्म विद्यालय था। जो आर्य बाहर से आए थे, वे आक्रामक थे, वे स्वार्थी थे, जैसे वह आये वैस हम अब यहाँ हैं, । अंग्रेज इसे फैलाने में तो सफल रहे, लेकिन हर तरह से भारत को समझाने में नाकाम रहे । मगर उनका यह अधुरा कार्य दुर्भाग्यवश स्वतंत्र भारत में कांग्रेस, प्रोग्रेसिव, लेफ्ट फ्रंट, ईसाई, मिशनरी, मुस्लिम और बड़े और छोटे दल, संस्थाओं पर आधारित जाति ने इस खाई को और चौड़ा कर दिया । उसी से, सांप्रदायिक संघर्ष, शहरी, ग्रामीण, आदिवासी संघर्ष उभरा । गलत पहचान का पोषण किया गया, घृणा का स्तर इतना बढ़ गया कि भारतीय संस्कृति, भारतीय घटनाओं, परंपराओं, इतिहास को कॉलेज परिसर में खुलेआम अवहेलना किया गया, जिनका हमारे साथ कोई लेना-देना नहीं है उन्हें मनाया जाने लगा। जैसे बीफ फेस्टिवल, लव डे, किस डे, मूलनिवासी, भारत तोड़ो ऐसे दिवसों के माध्यम से ऐसे विभिन्न स्तरों पर देश को तोड़ने के लिए एक प्रतिबद्धता स्थापित करते गये ।

मूल रूप से, जिसे यूएनओ द्वारा घोषित किया गया था उस मूल निवासी दिवस को कोई ऐतिहासिक पृष्ठभूमि नहीं हैं इसलिए विश्व भर के मूल निवासी लोगों ने इस दिवस के विरुद्ध विरोध करना आरंभ कर दिया है । यह विश्व के आदिवासियों के लिए पारंपरिक, गौरवशाली दिवस का कोई महत्वपूर्ण दिवस नहीं है। इतिहास को टटोला तो यह दिखाई देगा की इस दिन हेतु करोडो लोगों को नृशंस तरिके से मारा गया यह अत्यंत दुःखद तथा शोक प्रस्तुत करने का दिन है ।
इसके चलते संयुक्त राज्य अमेरिका सहित विश्व के मुख्य देश इसका विरोध कर रहे हैं। वस्तुतः अब तक मूलनिवासियों पर हुए अन्याय का अल्प प्रायश्चित हो इस हेतु से 2007 से 9 अगस्त को मूलनिवासी अधिकार दिवस के रूप में विश्व में मनाना प्रारंभ किया और उसीके चलते भारत में आदिवासी गौरव दिवस मनाया जा रहा है।

दुनिया को भारत द्वारा दिया गया विश्व योग दिवस, युवा दिवस कार्यक्रम सकारात्मकता और एकता का संदेश दे रहा है, लेकिन 9 अगस्त का उत्सव ऐसा कोई भी लक्ष्य प्राप्त नहीं करता है। 70 और 80 के दशक में, 9 अगस्त, 1942 “भारत छोड़ो’ आंदोलन की स्मृति दिखता था । 9 अगस्त, जिसे बाद में क्रांति दिवस के रूप में मनाया गया, जिसे मुख्य रूप से समाजवादी, वामपंथीयों द्वारा शिक्षा प्रणाली के माध्यम बनाकर अपहृत कर लिया गया और बाद में इसे केवल ‘क्रांति दिवस’ के रूप में मनाने के लिए एक निम्न स्तर का प्रयास किया गया।
लेकिन उनकी क्रांति मूल्यों और उनकी क्रांतिकारी प्रवृत्ती को देश ने कभी स्वीकार नहीं किया,
इसलिए वैश्विक स्तर के इस दिवस को, भारत में आदिवासियों की अलग पहचान का लाभ उठाने वाले संगठनों द्वारा तथा सभी अलगाववादी संगठन, इस दिवस को भारत के खिलाफ एक साजिश के रूप में मना रहा है।
इसलिए इसमें आदिवासियों के अधिकारों के बारे में जागरूकता नहीं है, लेकिन इसके विपरीत, यह स्वदेशी, आर्यन, गैर-आर्यन, छूत और अछूत भेदभाव के जहर को खत्म करना चाहता है। दुर्भाग्य से, कई राज्य सरकारें भी इस जाल में फंसी हुई हैं और सरकारी स्तर पर इन कार्यक्रमों का संचालन कर ऐसे विभाजन पैदा कर रही हैं।

झूठी आदिवासी पहचान के आधार पर साजिश को समझे बिना इन कार्यक्रमों को बढ़ावा देना मतलब है अलगाववाद एवं विखंडन की जहरीली खेती करने वाले को खाद प्रदान करना ।

इसलिए इस दिवस से आदिवासी समुदाय के साथ-साथ सभी भारतीयों को भी सतर्क रहना चाहिए क्योंकि इस दिवस के माध्यम से एक बार फिर भारत को बांटने की साजिश की जा रही है।

वनवासी कल्याण आश्रम या आदिवासी समुदाय के लिए काम करने वाले विभिन्न व्यक्ति और संगठन देश के दृष्टिकोण से इस बारे में सोचकर जागरूकता पैदा कर रहे हैं । इसलिए, भले ही यह दिन दुनिया के नक्शे पर सफल होता हो परंतु इसे भारत में साजिश के रूप में सफल होने की अनुमति कभी नहीं दी जाएगी । भारत का यह संकल्प काले पत्थर पर खींचीं रेखा के समान ही अमिट है…!

वनवासी कल्याण आश्रम समेत विवध संगठनों की मांग पर जनभावना का सम्मान करते हुए भारत सरकार ने 15 नवंबर यानी भगवान बिरसा मुंडा की जयंती को जनजातीय गौरव दिवस के मनाने का निर्णय लिया । सरकार के इस निर्णय से भारतीय समाज आह्लादित एवं उत्साहित है । जनजातीय गौरव दिवस के माध्यम से जनजातीय समाज की परंपरा, संस्कृति एवं शौर्य को जानने व समझने का सुअवसर प्राप्त हुआ है । जनजातीय गौरव दिवस की घोषणा होने के बाद विश्व आदिवासी दिवस को भारत में मनाने का कोई औचित्य नहीं रह जाता।

शरद जयश्री कमळाकर चव्हाण
(लेखक जनजातीय क्षेत्र में कार्य करने वाले सामाजिक कार्यकर्ता हैं एवं जनजातीय मामलों के जानकार हैं।)

Related Articles

Back to top button