RSSSpecial Day

विशाल व्यक्तित्व एवं महानायक रज्जू भैया

भारतवर्ष की धरती कभी भी वीरों से खाली नहीं रही। समय-समय पर इस देश का नेतृत्व करने के लिए कुछ विशेष लोगों का प्रादुर्भाव होता रहता है।अंग्रेजों के औपनिवेशिक शासनकाल में 29 जनवरी 1922 को एक अनोखे बालक का जन्म हुआ जो विलक्षण प्रतिभा का धनी था ।पिता कुंवर बलवीर सिंह एवं माता ज्वाला देवी के पुत्र के रूप में जन्मे राजेंद्र सिंह उर्फ रज्जू भैया के नाम से आज उन्हें समाज का हर प्रबुद्ध वर्ग पहचानता है। उनका प्रभुत्व एवं प्रभाव ऐसा था कि प्रसिद्ध कम्युनिस्ट नेता सोमनाथ चटर्जी ने उनको ‘देश का एक सही नायक’ के रूप में सम्बोधित किया।

प्रयागराज में ही अपनी विश्वविद्यालय काल के जीवन में रज्जू भैया का परिचय राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ नामक संगठन से हुआ जो अपने राष्ट्रीय विचारधाराओं के कारण बहुत ही कम समय में पूरे भारतवर्ष में विख्यात हो रहा था। रज्जू भैया का व्यक्तित्व बड़ा निराला था ,उन्होंने संघ से परिचय के बाद बहुत ही कम समय में संघ एवं इसके कार्यपद्धति विचार इत्यादि को जान लिया तथा स्वयं प्रेरणा से पूरा जीवन संघ को देने का निश्चय किया।

व्यक्तिगत जीवन में रज्जू भैया को जानने वाले बताते हैं कि वह हमेशा समाज और राष्ट्र की चिंता किया करते थे और इस कारण से घर में पैसों की कमी नहीं होने के बावजूद अपने जीवन को पूरी तरह से सादगीपूर्ण ढंग से अपनाया। आजन्म उनका यही आचरण अपने व्यक्तिगत जीवन और समाज में दिखा। प्रयागराज विश्वविद्यालय में आज भी उनकी शून्यता को भरा नहीं जा सका है। संघ में उनका जीवन एक परिव्राजक की भांति रहा तथा अपने जीवन काल में उन्होंने संघ को अनवरत बढ़ाया एवं इसके विचारों का प्रसार विदेशों तक किया। तृतीय सरसंघचालक श्री बाला साहब देवरस ने अपना स्वास्थ्य खराब होने के कारण 11 मार्च 1994 को रज्जू भैया (राजेंद्र सिंह) को अपना उत्तराधिकारी नियुक्त किया। संघ के इतिहास की यह पहली घटना थी कि सरसंघचालक के जीवित रहते उनके उत्तराधिकारी की घोषणा की गई। उस दिन से राजेंद्र सिंह जिनको सारे लोग “रज्जू भैया” के नाम से जानते हैं , संघ के चतुर्थ सरसंघचालक बने।

उत्तर प्रदेश में संघकार्य की बढ़ती आवश्यकता को देखकर सन 1966 में श्री रज्जू भैया ने स्वेच्छा से इलाहाबाद विश्वविद्यालय के भौतिक शास्त्र विभागाध्यक्ष पद से त्यागपत्र दे दिया और संघ के प्रचारक बन गये। सन 1978 में वह संघ के सरकार्यवाह बने। 1987 तक वे इस पद पर कार्य करते रहे। स्वास्थ्यगत कारणों से उन्होंने 1987 में वह पद छोड़ा और नूतन सरकार्यवाह श्री “हो वे शेषाद्री” के सहयोगी के रूप में वह सह सरकार्यवाह के नाते कार्य करते रहे। 11 मार्च 1994 को अखिल भारतीय प्रतिनिधि सभा में तत्कालीन सरसंघचालक श्री “बाला साहब देवरस” जी ने श्री “राजेंद्र सिंह” जी को चतुर्थ सरसंघचालक का दायित्व सौंप दिया।

राजेंद्र सिंह ऐसे पहले सरसंघचालक हैं जिन्होंने विदेश में जाकर वहां के हिंदू स्वयंसेवक संघ के कार्य का निरीक्षण किया। इस हेतु इंग्लैंड, मॉरिशस,केन्या दक्षिण अफ्रीका आदि देशो में उनका प्रवास हुआ।

1999 के फरवरी में प्रवास के क्रम में श्री “रज्जू भैया”जी जब पुणे में आए तब अचानक गिर जाने से उनके कमर की हड्डियां टूट गई। इसी कारण उस वर्ष की लखनऊ में संपन्न अखिल भारतीय प्रतिनिधि सभा की बैठक में वह उपस्थित नहीं हो सके। बाद में स्वास्थ्य में पूर्ण सुधार न होने और अधिक बोलने में कठिनाई के अनुभव के कारण उन्होंने अपने दायित्व से मुक्त होने की सोची और 10 मार्च 2000 को कुपहल्ली सीतारमैया सुदर्शन (के सी सुदर्शन) को अपना उत्तराधिकारी मनोनीत करने की घोषणा नागपुर के अखिल भारतीय प्रतिनिधि सभा की बैठक में की।
14 जुलाई 2003 को पुणे के कौशिक आश्रम में रज्जू भैया का देहावसान हुआ । उनके देहावसान के बाद संघ के धुरविरोधी रहे कम्युनिस्ट पार्टी के लीडर सोमनाथ चटर्जी ने कहा था कि आज हमने देश का एक सही नायक को खो दिया |

Related Articles

Back to top button