News

अपने देश के ट्रैक चालकों के आंदोलन में जस्टिन ट्रूडो को दिख रहा है राष्ट्रद्रोह – पहली बार कनाडा में लगाया आपातकाल

भारत के किसान आंदोलन के पक्ष में खड़े जुडो को अपने देश के ट्रैक चालकों के आंदोलन में राष्ट्रद्रोह दिख रहा है  

कनाडा -अमेरिका सीमा पर ट्रैक चालकों के चल रहे आंदोलन से निपटने के लिए कनाडा  के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो ने तीस दिनों के लिए आपातकाल लागू कर दिया है। कनाडा के इतिहास में पहली बार आपातकाल अधिनियम को लागू किया गया है जिसे १९८८ में कनाडा के संविधान में सम्मिलित किया गया था। आंदोलन अपने 18वें दिन में प्रवेश कर गया है।कनाडाई संविधान फाउंडेशन ने एक विज्ञप्ति जारी करते हुए कहा कि यह “संघीय सरकार के आज के आपातकालीन अधिनियम के ऐतिहासिक परिणाम होंगे। “हम अवैध और खतरनाक गतिविधियों को जारी रखने की अनुमति नहीं दे सकते हैं और नहीं देंगे,” उन्होंने ओटावा में कहा।

लागू किए जाने वाले उपायों में कनाडा को संयुक्त राज्य अमेरिका से जोड़ने वाले प्रमुख सीमा व्यापार मार्गों सहित प्रदर्शनकारियों की सभाओं को तितर-बितर करने के लिए कानून प्रवर्तन के लिए मजबूत उपकरण होंगे।इसके अलावा, अधिनियम सरकार को क्राउडफंडिंग प्लेटफॉर्म और भुगतान  के बाद जाने की अनुमति देगा, जिसका उपयोग स्वतंत्रता काफिले 2022 द्वारा उनके विरोध को निधि देने के लिए किया गया है, और वित्तीय संस्थानों को आंदोलन से जुड़े व्यक्तियों या संगठनों के खातों को फ्रीज करने के लिए मजबूर करेगा।

यह घोषणा उन रिपोर्टों के बाद आई है कि संकट से निपटने के लिए ट्रूडो पर संयुक्त राज्य अमेरिका का दबाव था, जिसने कनाडा के चार प्रांतों – ओंटारियो, ब्रिटिश कोलंबिया, मैनिटोबा और अल्बर्टा के लिए ट्रकिंग मार्गों को प्रभावित किया है ।इससे व्यापार घाटा बढेगा।जस्टिन ट्रूडो ने चल रहे विरोध प्रदर्शनों के कारण कनाडा को हुई “प्रतिष्ठित क्षति” के बारे में भी बताया, और कहा कि टीके से संबंधित मुद्दों का ऐसा विरोध “दुनिया भर मे कही भी नही हुआ।“इन उपायों का दायरा समय-सीमित तथा भौगोलिक रूप से लक्षित और उन खतरों के अनुपात में होगा। इस अधिनियम का उपयोग देश भर में जहां कहीं भी आवश्यक होगा, वहा सभी स्तरों पर कानून प्रवर्तन एजेंसियों को मजबूत और समर्थन देने के लिए किया जाएगा।

कनाडा में कोरोना वैक्‍सीन को अनिवार्य किए जाने और लॉकडॉउन के खिलाफ ये प्रदर्शन हो रहा है. हजारों की तादाद में ट्रक ड्राइवर्स अपने ट्रकों को लेकर सड़कों पर उतरे हुए हैं. राजधानी ओटावा के आसपास के इलाके इससे जाम हैं. करीब 70 किलोमीटर तक ट्रकों का काफिला सड़क पर है, जिसे प्रदर्शनकारी ‘फ्रीडम कान्वॉय’ कह रहे हैं। कनाडा की राजधानी ओटावा में प्रदर्शन कर रहे करीब 50 हजार प्रदर्शनकारियों का कहना है कि वे प्रधानमंत्री  जस्टिन ट्रूडो के पद त्याग करने  तक यहां डटे रहेंगे. .

ट्रक ड्राइवरों का विरोध के चलते ओंटारियो प्रांत में आपातकाल (State of Emergency) की घोषणा कर दी गई है. ट्रक ड्राइवरों के विरोध के चलते कनाडा के बड़े हिस्से में हालात नाजुक हैं. इस प्रदर्शन की वजह से अमेरिका के साथ लगे बॉर्डर पर रास्ते बंद हैं, जिससे व्यापार काफी ज्यादा प्रभावित है. कनाडा की राजधानी ओटावा में पहले ही आपातकाल की घोषणा की जा चुकी है.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button